इंडिया में बिज़नेस कैसे शुरू करें

इंडिया में बिज़नेस कैसे शुरू करें | business kaise start kre.

इंडिया में बिज़नेस कैसे शुरू करें और क्या वो कदम होंगे जो आपको इंडिया में सबसे सफल बिज़नेसमेन बना सकते हैं, इसका विस्तार वर्णन हमने नीचे इस लेख में किया है। अंत तक ज़रूर पढ़ें। 

भारत में बढ़ते मिडिल क्लास के साथ-साथ युवाओं में बिज़नेस की आकांक्षाएं भी बढ़ रही हैं। टेक्नोलॉजी ने कई बिज़नेस के अवसर खोले हैं और बिज़नेस शुरू करना और उसका मैनेजमेंट करना आसान बना दिया है। इसलिए, इंडिया में बिज़नेस शुरू करने के लिए किसी भी अन्य समय की तुलना में यह अधिक फायदेमंद है। 

इस लेख में, हम आपको बताएँगे कि इंडिया में बिज़नेस शुरू कैसे करें और किन कदमों से आप अपनी इस बिज़नेस शुरू करने की यात्रा को आसान बना सकते हैं।

इंडिया में अपना बिज़नेस कैसे शुरू करें

बिज़नेस शुरू करने के पहले ऐसे बहुत से फैक्टर्स हैं जो आपके बिज़नेस को शुरू से ही प्रभावित करते हैं, ऐसी स्थिति में आपको यह जानना ज़रूरी है कि इंडिया में बिज़नेस कैसे शुरू करें। यह हमने नीचे इस लेख में स्टेप बाय स्टेप पूरा विस्तार से बताया है।

  1. एक बिज़नेस चुनना

बिज़नेस शुरू करने से पहले, आपके पास अपने बिज़नेस के लिए एक विजन होना चाहिए। यदि आपके पास कोई बिज़नेस आईडियाज़ नहीं है, तो आप फ्यूचर बिज़नेस आईडियाज़ के लिए ऑनलाइन देख सकते हैं। सोच समझ कर बिज़नेस चुनें जो हर हालात में आपको सबसे ज्यादा कमाई दे सके।

इंडिया में बिज़नेस कैसे शुरू करें इसके लिए आपका पहला कदम यही होना चाहिए ताकि आपको बाद में किसी भी प्रकार की शंका आदि ना रहे और आप पूरे मन से अपने बिज़नेस में ध्यान दे सकें।

  1.   बिज़नेस एंटिटी पंजीकरण (Business Entity Registration)

इंडिया में बिज़नेस शुरू करने का दूसरा कदम बिज़नेस का निर्णय लेना और उसका चयन करना है। एक बिज़नेस एंटिटी चुनना आदि चुनने के जैसा है। अगर लंबी यात्रा की उम्मीद है, तो कार चुनना सबसे अच्छा है।

इसी तरह, आपने यदि एक मध्यम से बड़े आकार के बिज़नेस की परिकल्पना की है, तो एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को शामिल करना सबसे अच्छा है। दूसरी ओर, यदि आपके बिज़नेस की कल्पना सूक्ष्म या लघु है, तो सीमित देयता भागीदारी (LLP – Limited Liability Partnership) या प्रोपराइटरशिप शुरू करना बुद्धिमानी होगी।

  1. बैंक खाता खोलना

बिज़नेस एंटिटी के रजिस्ट्रेशन के बाद बिज़नेस के नाम पर बैंक खाता खोलना आपका सबसे पहला कदम होना चाहिए। एलएलपी, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी, वन पर्सन कंपनी और लिमिटेड कंपनी जैसी कॉर्पोरेट संस्थाओं को संस्था के इनकारपोरेशन प्रमाणपत्र और पैन कार्ड की एक प्रति जमा करके भारत में एक बैंक खाता खोलने की अनुमति है। 

दूसरी ओर, एक प्रोपराइटरशिप इकाई के लिए बिज़नेस के नाम पर एक बैंक खाता खोलना अधिक बोझिल हो सकता है – क्योंकि प्रोपराइटरशिप बिज़नेस की पहचान स्थापित करने के लिए एक या अधिक टैक्स पंजीकरण की आवश्यकता हो सकती है। 

यदि आपको नया बिज़नेस शुरू करते समय कार्यशील पूंजी या उपकरण की खरीदी के लिए बैंक लोन की आवश्यकता है, तो राष्ट्रीयकृत बैंक के साथ बैंक खाता खोलना सबसे अच्छा है। निजीकृत बैंकों की तुलना में राष्ट्रीयकृत बैंक स्टार्टअप के लिए बैंक ऋण प्रदान करने के पक्ष में हैं। इसलिए, बिज़नेस खाता खोलते समय सही बैंकर का चयन किया जाना चाहिए।

  1. टैक्स रजिस्ट्रेशन

बिज़नेस या विक्रेता मानदंड या ग्राहक आवश्यकताओं द्वारा प्रस्तावित एक्टिविटी के प्रकार के आधार पर, बिज़नेस के लिए विभिन्न टैक्स रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता हो सकती है, जो निम्नानुसार है:

जीएसटी रजिस्ट्रेशन: अधिकांश राज्यों में कारोबार 20 लाख रुपये से अधिक होने पर किसी भी व्यक्ति या संस्था के लिए जीएसटी पंजीकरण अनिवार्य है।

TAN रजिस्ट्रेशन: स्रोत पर टैक्स कटौती (टीडीएस) के लिए TAN रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है। इसलिए, कर्मचारियों को काम पर रखने या कुछ ग्राहकों या विक्रेताओं के साथ व्यवहार करते समय TAN रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता हो सकती है। 

ESI रजिस्ट्रेशन: ईएसआई पंजीकरण अनिवार्य होता है जब बिज़नेस में कर्मचारियों की संख्या 20 को पार करे। ESI रजिस्ट्रेशन का प्रमाण अक्सर उन बिज़नेस द्वारा अनुरोध किया जाता है जो जनशक्ति आवश्यकताओं को आउटसोर्स करते हैं।

  1. बिज़नेस ट्रेडमार्क 

जैसे-जैसे आपका बिज़नेस बढ़ेगा, वैसे-वैसे उसकी ब्रांड वैल्यू भी बढ़ेगी। इसलिए, यह जरूरी है कि आप अपनी बौद्धिक संपदा (Intellectual Property) की रक्षा करें, जिसमें आपके बिज़नेस का नाम, लोगो, टैगलाइन और अन्य प्रमुख वाक्यांश शामिल होते हैं। ट्रेडमार्क, यदि सरकार के साथ पंजीकृत है, तो आपको ब्रांडिंग और विज्ञापन के माध्यम से अपने बिज़नेस में बनाए गए मूल्य के दुरुपयोग से सुरक्षा प्रदान करता है।

और अंत में 

देखा जाए तो ऐसे बहुत से Factors हैं जिन्हें ध्यान दिया जाना चाहिए अगर आप यह सोच रहे हैं कि इंडिया में बिज़नेस कैसे शुरू करें, हमने इस लेख में ऊपर मुख्य 5 फैक्टर्स को तो बेहतर रूप से बता ही दिया है।

इन 5 के साथ आपको अपने बिज़नेस के लिए फाइनेंस इकट्ठा करना होगा और इसके लिए आपको बैंक, कोई फाइनेंसियल संस्थान की मदद लेनी होगी जिनसे आपको थोड़ी सी म्हणत करने पर लोन राशि आसानी से मिल जाएगी।

इन्हें भी पढ़ें: इंस्टाग्राम से पैसे कैसे कमाए? Insta se paise kaise kamaye?

FAQs

Q1- भारत में कोनसा बिज़नेस आपको सबसे ज़्यादा लाभ देगा?

A- देखा जाये तो ये सब आपकी लागत और बिज़नेस के टाइप के ऊपर निर्भर करता है। लेकिन में आपको कुछ सुझाव ज़रूर देना चाहूंगा:

  • क्लाउड किचन
  • वेडिंग प्लानर 
  • कूरियर बिज़नेस 
  • पेट केयर सर्विस 

Q2- भारत में कोनसा बिज़नेस आप घर बैठे कर सकते है?

A- में इतना ज्ञानी तो नहीं हु लेकिन मेरे हिसाब से घर बैठे बिज़नेस करने वाले ये सर्वसेष्ठ बिज़नेस आइडियाज है- 

कोचिंग क्लासेज 

ऑनलाइन बेकरी  

होम बेस्ड कैटरिंग 

डिजिटल मार्केटिंग सर्विसेज

ट्रेवल एजेंसी 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.